प्रत्येक सुधार का मानवीय पहलू अवश्य होना चाहिए: उपराष्ट्रपति ने कोच्चि चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के 160वें वार्षिक समारोह का उद्घाटन किया।

कोच्चि, केरल
नवम्बर 22, 2017

भारत के उपराष्ट्रपति, श्री एम. वेकैया नायडु ने कहा है कि प्रत्येक सुधार का एक मानवीय पहलू अवश्य होना चाहिए और इस सुधार का लाभ समाज के निर्धनतम वर्ग तक पहुंचना चाहिए। वे आज केरल के कोच्चि में चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के 160वें वा‍र्षिक समारोह के उद्घाटन के अवसर पर एक सभा को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर केरल के राज्यपाल श्री पी. सदाशिवम, स्थानीय स्व-शासन, अल्पसंख्यक कल्याण, वक्फ़ और हज मंत्री, डा. के. टी. जलील, कोच्चि की महापौर श्रीमती सौमिनी जैन और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि व्यापार मंडल (चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स) देश के आर्थिक विकास में बड़ी भूमिका अदा करते हैं। उन्होंने आगे कहा कि वे सरकारों को ऐसे विधान तथा विनियम तैयार करने की सलाह देने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं जिनसे कारोबार करने में कठिनाईयों की बजाए सुगमता आ सके। उन्होंने यह भी कहा कि इनका दायित्व अपने सदस्यों के मध्य नैतिकतापूर्ण निगमित सुशासन, कर संबंधी अनुपालन और नियमित सामाजिक दायित्व को बढ़ावा देने का भी होता है।

उपराष्ट्रपति ने निगमित क्षेत्र से आग्रह किया कि वे स्वयं को संविधियों में विनिर्दिष्ट बातों तक ही सीमित न रखें, बल्कि इसके आगे निगमित सामाजिक दायित्व संबंधी पहल करें। उन्होंने यह भी कहा कि कोचीन चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री को इस संबंध में सक्रिय भूमिका निभानी होगी। उन्होंने आगे कहा कि एक के बाद एक आने वाली सरकारों द्वारा आरंभ किए गए और कार्यान्वित किए गए आर्थिक सुधारों के फलस्वरूप, भारत आज विश्व में सबसे तेजी से बढ़ती हुई अर्थव्यवस्थाओं में शामिल हो गया है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि गॉड्स ओन कन्ट्री के रूप में विख्यात केरल सर्वाधिक सुन्दर गन्तव्य स्थलों में से एक है और सामाजिक कल्याण तथा बेहतर जीवन की दृष्टि से यह भारत के सर्वाधिक प्रगतिशील राज्यों में भी शामिल है।

Is Press Release?: 
1